Know The Real India

Home » EDUCATION » अल्लाह बनाम तारी बनाम ईश्वर

अल्लाह बनाम तारी बनाम ईश्वर

Archives

Categories


इस्लाम का प्रारम्भ राष्ट्रीयता को अमान्य करते हुए हुआ । उनके लिए राष्ट्रीयता नाम की कोई चीज नहीं है । दुनिया भर के सारे मुसलमान जो एक राष्ट्र बनाते हैं , उसको मिल्लत कहते हैं । इस्लामिक अरब की साम्राज्यवादी नीति के अनुसार सब एक मिल्लत हैं एक राष्ट्र हैं , लेकिन हो नहीं सका । इस्लाम जब विभिन्न देशों में गया , तो राष्ट्रीयता के आधार पर बट गया । अरबिस्तान से तुर्किस्तान में पहुँचा , तो तुर्किस्तान की राष्ट्रीयता ने नया रूप ले लिया । 1918 में जब खलीपा को गद्दी से उतार कर मुस्तफा कमाल पाशा वहाँ का प्रमुख बन गया , तो उसने सारे मुल्ला – मौलवियों को बुलाकर कहा – ” कौन सी भाषा में नमाज पढ़ते हो ? ” उन्होंने कहा ‘ हम अरबी में पढ़ते हैं ‘ ” अरबी में क्यों ? क्या भगवान को तुर्की भाषा समझ में नहीं आती ? खबरदार ! अब अरबी भाषा में नमाज नहीं पढ़ोगे और अल्लाह नहीं कहोगे । अल्लाह अरबी शब्द है , तुर्की का शब्द है तारी , सबको तारी कहना पड़ेगा । ”


इसी प्रकार ईरान वालों ने अरब साम्राज्यवादी मानसिकता के स्थान पर इस्लाम के शिया पंथ को स्वीकार करके अपनी ईरानी राष्ट्रीयता को उसके माध्यम से प्रकट किया । पारसी मत में जितनी भी मान्यताएँ थी , उन सारी मान्यताओं को उसके अन्दर डालकर उसका एक नया रूप विकसित किया , जिसको हम ” सूफीमत ” कहते हैं । जिस सूफी मत की अंतिम सीढ़ी है – अन अल् हक ( अहं ब्रह्मास्मि ) तो उनका राष्ट्रीयकरण इस रूप में हुआ । इसी प्रकार इंडोनेशिया में भी इस्लाम गया , लेकिन वहाँ के लोगों ने हिन्दू संस्कृति को इस्लाम के साथ ऐसा अच्छे ढंग से मिला लिया कि आज वहाँ का 90 प्रतिशत आदमी मुसलमान होने के बाद भी रामायण , महाभारत को अपना सांस्कृतिक ग्रन्थ कहता है । राम और कृष्ण को अपना पूर्वज मानकर चलता है । संस्कृतनिष्ठ नाम रखता है – सुकर्ण , सुहृद , रत्नावली आदि । मेघवती सुकर्णपुत्री वहाँ की उपराष्ट्रपति रह चुकी है । वहाँ के विश्वविद्यालय के नाम है , अमितजय विश्वविद्यालय , त्रिपति विश्वविद्यालय । वहाँ जकार्ता जायेंगे , तो चौरास्ते के ऊपर भगवान श्रीकृष्ण का गीतापदेश देने वाला पूरा रथ बना हुआ है , जिसे बड़े गौरव के साथ वहाँ देखा जाता है । उनका मत परिवर्तन तो हो गया लेकिन उन्होंने अपना सांस्कृतिक परिवर्तन न होने दिया ।
लेकिन भारत में मोहनदास गांधी और जवाहर लाल नेहरू द्वारा शुरू की गई सांप्रदायिक तुष्टीकरण की नीतियों के कारण देश भी सांम्प्रदायिक आधार पर बट गया और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद भी जन्म न ले सका । अब खण्डित भारत के धर्मांतरित मुस्लिम समाज को ही भारत की अस्मिता , अपने मूल भारतीय पूर्वजों , भाषा , संस्कृति आदि के बारे में सोचना पडेगा । जब इंडोनेशिया के मुस्लिम नागरिक अपनी सांस्कृति आस्था के अनुसार शिव की पूजा कर सकते है , अपनी कब्रों पर रामायण की पंक्तियां खुदवा सकते है तथा तुर्की वाले अल्लाह को तारी के नाम से पुकार सकते है , तो तुम अल्लाह को ईश्वर के नाम से क्यों नहीं पुकार सकते ? अरबी के स्थान पर संस्कृत को क्यों नहीं अपना सकते ? भारत का मुसलमान तो यहीं का है , तो इसलिए वहाँ के लोग रामायण , महाभारत को मानते हैं , तुम क्यों नहीं मान सकते ? राम , कृष्ण को अपना पूर्वज मानते है तो तुम क्यों नहीं मान सकते ? तुम मानोगे , तो इस धरती से जुड़ जाओगे और जो आदमी धरती से जुड़ जायेगा , वह राष्ट्र का अपना बन जायेगा ।

Read Also: जब गांधी की भ्रामक राजनीतिक सोच के कारण भगवा ध्वज राष्ट्रध्वज न बन सका

भारत का मुसलमान केवल मुसलमान है , इस आधार पर किसी मुस्लिम देश में स्थान नहीं पा सकता । हा , हज करने जाओ , दर्शन करने जाओ , चलेगा , वहाँ पर बस नहीं सकते । अकेले सऊदी अरब से 22 हजार बंगलादेशी मुसलमानों को निकाल बाहर किया गया । आखिर मुसलमान थे न । मुसलमान भाई हैं , फिर क्यों निकाला ? केवल मजहब जो है जोड़ता नहीं है , धरती जोड़ती है । इसलिए हमारा कहना है कि भारत का मुसलमान जो इस धरती पर पैदा हुआ है , उसको अपना माने , उसको अपनी माँ कहे । उसको वन्दे मातरम् कहने में तकलीफ क्यों होती है ? गर्व से कहना चाहिए , हाँ , यह हमारी माता है , हम इसके पुत्र है । अपने सारे पूर्वजों को मान लो । यहाँ की संस्कृति कहती है , सत्य एक है इसी को विभिन्न नामों से पुकारते है , उस संस्कृति को स्वीकार कर लो , तो झगड़ा कुछ नहीं रहेगा , आप धरती से जुड़ जाओगे तो यह देश अपना हो जायेगा ।

Try It Make Money By Android Phone

Read Also: अल्लाह बनाम तारी बनाम ईश्वर

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: